धर्म / संस्कृति

आदि कैलाश यात्रा की रंगारंग शुरूआत, श्रधालुओं में दिखा उत्साह

Spread the love

उत्तराखंड /हल्द्वानी 

 

 

कुमाऊं मंडल विकास निगम की ओर से संचालित आदि कैलाश यात्रा आज़ से शुरू हो गयी है। आदि कैलाश यात्रा को लेकर भोले के भक्तों में भारी उत्साह हैं, पहला दल आज 4 मई को काठगोदाम से पिथौरागढ़ टीआरसी के लिए रवाना हो गया हैं, कुमाऊं मंडल विकास निगम 1990 से आदि कैलाश यात्रा आयोजित करा रहा है। पहले इस यात्रा के लिए सड़क ना होने के कारण आवागमन में करीब 200 किलोमीटर पैदल चलना होता था। अब भारत सरकार और उत्तराखंड सरकार के प्रयासों और सीमा सड़क निर्माण विभाग के सानिध्य में नावीढांग एवं जोलीकांग तक राष्ट्रीय राजमार्ग का निर्माण कार्य चल रहा है। जिससे यात्रियों को करीब दो किलोमीटर से अधिक पैदल नहीं चलना होगा। पहले दल में 9 महिलाओं समेत 19 यात्री शामिल हैं। इसके अलावा निगम के गाइड शामिल हैं। कुमाऊँ मंडल विकास निगम के अतिथि गृह में यात्रियों का पारंपरिक तरीके से स्वागत किया गया, कुमाऊँ मंडल विकास निगम के प्रबंध निदेशक दिनेश तोमर में यात्री दल को हरी झंडी देकर पिथौरागढ़ के लिए रवाना किया इस मौके पर उन्होंने यात्रियों के सुखद यात्रा की कामना की, आदि कैलाश यात्रा को लेकर भोले के श्रद्धालुओं में जबरदस्त उत्साह है।

कुमाऊं मंडल के प्रबंध निदेशक विनीत तोमर के मुताबिक सबसे बड़ी अच्छी बात तो यह है कि अभी मौसम पूरी तरह से खुला हुआ है और पहाड़ी इलाकों में भी फिलहाल मौसम साफ है, इस साल कुल 34 दल आदि कैलाश की यात्रा करेंगे, 20 दल जून माह तक आदि कैलाश भेजे जाएंगे, जबकि बाकी 14 दल मानसून के बाद सितंबर अक्टूबर माह में आदि कैलाश के दर्शन के लिए जाएंगे, यात्रा में हेल्थ चेक अप समेत अन्य सुविधाओं का ध्यान रखा गया है।

क्या हैं आदि कैलाश यात्रा

स्कंद पुराण के मानस खंड में आदि कैलाश एवं ॐ पर्वत की यात्रा को कैलाश मानसरोवर यात्रा जितनी ही प्रमुखता दी गई है। पिथौरागढ़ जिले में भारत तिब्बत सीमा के पास स्थित आदि कैलाश जो कैलाश पर्वत की छवि है। मान्यता है कि आदि कैलाश पर भी समय-समय पर भोले बाबा का निवास रहा है। पास ही स्थित पार्वती सरोवर में माता पार्वती का स्नान स्थल हुआ करता था। ॐ पर्वत तीन देशों की सीमाओं से लगा हुआ है। इस स्थान के धार्मिक एवं पौराणिक महत्व का वर्णन महाभारत, रामायण एवं पुराणों जैसे ग्रंथों में मिलता है।

यात्रा में इन धार्मिक पड़ावों से गुजरेंगे श्रद्धालु

आदि कैलास एवं ॐ पर्वत यात्रा सिर्फ़ दो स्थानों की नहीं बल्कि अनेक धार्मिक तीर्थों को समेटे हैं। नैनीताल जिले के काठगोदाम से आठ दिनों में होने वाली यह यात्रा नीम करोली बाबा आश्रम कैंची धाम, चितई गोलू मंदिर, जागेश्वर धाम, पार्वती मुकुट, ब्रह्मा पर्वत, शेषनाग पर्वत, शिव मंदिर, पार्वती सरोवर, गौरीकुंड, पाताल भुवनेश्वर, महाभारत काल के बहुत से स्थानों जैसे पांडव किला, कुंती पर्वत, पांडव पर्वत एवं वेदव्यास गुफा से होकर गुजरेगी। खूबसूरत पहाड़ियों से घिरे, नैसर्गिक दृश्यों से परिपूर्ण, मन को रोमांचित करने वाली इस यात्रा को बेहतर व सुविधाजनक बनाने के लिए कुमाऊं मंडल विकास निगम और संस्था की ओर से यात्रा में हवन पूजा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के आयोजन का भी प्रावधान किया गया है। यात्रा में यात्री पहाड़ी ब्यजनों का भी लुत्फ़ उठा पायेंगे।

आपका खबरिया प्रदेश तथा देश-विदेश की ताज़ा ख़बरों व समाचारों का एक डिजिटल माध्यम है। अपने विचार या ख़बरों को प्रसारित करने हेतु हमसे संपर्क करें। धन्यवाद

संपादक –

नाम: तारा चन्द्र जोशी
पता: तीनपानी, बरेली रोड, हल्द्वानी
दूरभाष: 9410971706
ईमेल: [email protected]

© 2024, Apka Khabariya (आपका खबरिया)
Website Developed & Maintained by Naresh Singh Rana
(⌐■_■) Call/WhatsApp 7456891860
To Top