पहाड़ के इस युवा ने बिच्छू घास को बनाया आजीविका का साधन

ख़बर शेयर करें

नैनीताल

धारी ब्लॉक के रहने वाले हेमंत दानी बिच्छू घास से हर्बल चाय बना रहे हैं । उत्तराखंड के पहाड़ी अंचल में बहुतायत में पाई जाने वाली बिच्छू घास (सिसूण) के पत्तों से यह हर्बल चाय बनाई जा रही है, हेमंत दानी बचपन से ही पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में कार्य करते रहे हैं। उनके द्वारा समय-समय पर पौधारोपण का कार्य किया जाता रहा है।
जनपद नैनीताल के विकासखण्ड धारी के सुदूरवर्ती क्षेत्र कसानी के रहने वाले हेमंत दानी ने  2017-18 में अपने गांव में फलदार एवं छायादार पौधे लगाए गए थे, जो कि अब फल देने लगे हैं ।

गाजियाबाद स्थित गैर सरकारी संगठन होप फाउंडेशन द्वारा वर्ष 2018 में उन्हें पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में सम्मानित भी किया जा चुका है।
उनके द्वारा पर्यावरण संरक्षण के विभिन्न सूक्ष्म परियोजनाओं पर विभिन्न प्रयास किए जा रहे हैं तथा स्थानीय युवाओं को भी पर्यावरण की मुहिम से जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments