मंत्री का दावा – एक अरब की बनी सड़कें, फिर भी ठोकर खाने को मजबूर जनता…

ख़बर शेयर करें

उत्तराखण्ड के शहरी विकास मंत्री के विधान सभा क्षेत्र की बदहाल सड़कें ,मंत्री का दावा करोड़ों की लागत से हुआ है कायाकल्प ।

उत्तराखंड सरकार ने भले ही जल्द सड़को की मरम्मत का काम शुरु करने की बात कही हो , लेकिन ग्रामीण इलाकों में कई जगह ऐसी है जहां चुनाव के वक़्त जनप्रतिनिधियों ने चुनाव में जीतने के बाद सड़क बनाने का वादा जरूर किया लेकिन सड़क आजतक नही पहुंचा पाए ,

कालाढूंगी, लालकुआं , हल्द्वानी विधानसभाओं में खस्ताहाल सड़कें लोगो के लिए जी का जंजाल बनी हुई हैं, इन खस्ताहाल सड़को पर 24 घण्टे में कोई का कोई वीआईपी का काफिला जरूर गुजरता है पर सड़को के गड्ढे शायद किसी को दिखाई नही देते , लामाचौड़, कटघरिया फतेहपुर , रिंग रोड कहे जाने वाली सड़कें मौत को दावत दी रही हैं, स्थानीय लोगो का आरोप है की पिछले 4 सालों में सड़कों की खस्ताहाली ने आम जनता का जीना दूभर हो गया है कितने ही लोग अकाल मौत मर चुके हैं , जबकि उत्तराखण्ड सरकार में शहरी विकास मंत्री बंशीधर भगत सड़को का कायाकल्प करने का दावा कर रहे हैं , सड़कों का सबसे बुरा हाल उन्ही की विधानसभा क्षेत्र का है ।
हरीश सिंह नगरकोटी, ग्राम गजरोड़ा नवाड सैलानी के रहने वाले हैं, कुछ दिन पहले यह एक सड़क दुर्घटना के शिकार हुए , मल्ला फतेहपुर से इनके गांव की दूरी करीब 1 किलोमीटर की है, लेकिन पिछले 4 सालों में आश्वासनों की सड़क के अलावा कुछ नही बना है, ग्रामीण इनको कंधे पर रखकर इलाज़ के लिए सड़क तक ले जाते हैं उसके बाद गाड़ी से अस्पताल, ग्रामीण कई बार सड़क के लिये मंत्री और अधिकारियों के चक्कर काट चुके हैं लेकिन नतीजा शून्य ही निकला , ग्रामीणों को लम्बे समय से सड़क की दरकार है।
ऊंचा पुल, कटघरिया, लामाचौड़ इन इलाकों में सड़कों की हालत बेहद खराब है, सड़कें जर्जर हो चुकी हैं, सड़कों में कई जगह तालाब बन चुके है, खस्ताहाल सड़कें आये दिन दुर्घटनाओं को निमंत्रण दे रही है लेकिन अभी तक जानलेवा सड़को की सुध लेने वाले कोई नही है।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments